Russian Collection

जेएनयू केन्द्रीय पुस्तकालय ने रूसी भाषा संग्रह को पूरी एक मंजिल सौंपी है। पुस्तकालय की आठवीं मंजिल केवल रूसी सामग्री का संग्रह है जिसमे पुस्तकों के साथ पाठ्यपुस्तकों, पत्रिकाओं, समाचार पत्र, आदि शामिल है। यह 70,000 से अधिक पुस्तकों का संग्रह है, इसमें, पाठ्यपुस्तकें शुरुआत के लिए, व्याकरण की पुस्तक, शब्दकोश रूसी से अंग्रेजी और अंग्रेजी से रूसी, साथ ही साथ हिंदी से रूसी और रूसी से हिंदी तथा रूसी से अन्य भारतीय भाषाओ में जैसे बंगाली, तमिल, आदि. इसके साथ वैज्ञानिक शब्दकोशों भी उपलब्ध है। इस मंजिल पर उपलब्ध शब्दकोशों बहुत दुर्लभ संग्रह हैं जो ना केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में उपलब्ध नहीं हैं। और यदि बाजार में उपलब्ध है तो बहुत बहुमूल्य है।

जेएनयू केन्द्रीय पुस्तकालय की आठवीं मंजिल पर रूसी लेखकों की साहित्यिक कृतियों पर पुस्तकों है जो कि XVIIIth सदी के बाद की है, और कुछ साहित्यिक कृतियों इस से पहले कि हैं। साहित्य धारा कि किताबें को सेंचुरी और दशक के अनुसार कालक्रम रखा जाता हैं, साथ ही साथ, लेखकों के उपनाम कि वर्णमाला के क्रम के रूप रखा जाता हैं जैसे कि, पुश्किन, गोगोल , तुर्गेनेव, चेखोव, दोस्तोएव्स्क्य, आदि। यह प्रसिद्ध रूसी लेखकों के काम का संग्रह है। इन संग्रहों में कुछ पुस्तकों का पचास से भी अधिक संस्करण उपलब्ध है।इसके अलावा, वहाँ में इन प्रसिद्ध साहित्यिक कृतियों का हिंदी और इंग्लिश भाषा में अनुवाद संस्करण भी उपलब्ध हैं, जो रूसी भाषा या अन्य नए छात्रों को रूसी साहित्य और भाषा को समझने के लिए सहायक होती हैं।

जेएनयू केन्द्रीय पुस्तकालय के रूसी खंड में भाषाविज्ञान, व्याकरण, आकृति विज्ञान, कोशकला, सिंटेक्स, आदि का भी पुस्तक संग्रह है जो कि रूसी भाषा के छात्रों के लिए बहुत उपयोगी हैं। इन किताबों को कई प्रसिद्ध लोगों द्वारा लिखत हैं जैसे वाग्नेर, पुल्किना, खाव्रोनिया आदि. इस संग्रह में जेएनयू संकाय द्वारा लिखित पुस्तक भी शामिल हैं। Tइस संग्रह कि पुस्तक अत्यंत महत्त्वपूर्ण और पुरानी है कि वे ना केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में उपलब्ध नहीं हैं। इन संग्रहों में पुस्तकों के साथ शब्दकोश संग्रह भी जेएनयू केन्द्रीय पुस्तकालय की आठवीं मंजिल पर है जो कि अनमोल/अमूल्य हैं।

जेएनयू केन्द्रीय पुस्तकालय के रूसी विभाग ने हाल ही में नई पुस्तक संग्रह का अद्यतन किया है। इससे पहले यह किताबें जो तत्कालीन सोवियत संघ में प्रकाशित पुस्तक का संग्रह था।. अब यह, सोवियत संघ के टूटने के बाद जो पंद्रह सीआईएस (स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल) देशों द्वारा प्रकाशित किताबें को खरीदा गया हैं, जिसमें 1991 के बाद प्रकाशित किताबें हैं। यह किताबें न केवल रूस प्रकाशन द्वारा प्रकाशित बल्कि इन पंद्रह सीआईएस देशों के प्रकाशन द्वारा भी प्राप्त कि गई हैं, इसमें यूक्रेन, तुर्कमेनिस्तान, ताजिकिस्तान, कजाकिस्तान और शामिल हैं। अब यह लगभग सभी क्षेत्रों नवीनतम पुस्तक और पत्रिकाओं का संग्रह है जैसे कानून, इतिहास, विज्ञान, मानविकी आदि। जेएनयू केन्द्रीय पुस्तकालय के रूसी खंड में रूसी भाषा पुस्तकों का भारत में सबसे बड़ा संग्रह है।

-A A +A